एक टोपी बेचने वाला एक गांव में टोपी बेचने के लिए गया था। कुछ टोपी बेचने के बाद, दोपहर को एक पेड़ के नीचे आराम करने लगा। उसे पता नहीं था कि पेड़ के ऊपर कुछ बंदर बैठे हुए थे। वह सो गया। सो जाने के बाद सारे बंदे ने उसकी थेली में से टोपी निकालकर अपने सर पर पहन लिया। उस टोपी वाले की सारी टोपी खत्म हो गई। सभी बंदरोंने एक-एक टोपी पहन ली थी।

 फिर टोपीवाला नींद से जगा और देखा कि उसकी एक भी टोपी उसके पास नहीं है। सिर्फ उसने पहनी थी वही टोपी उसके पास थी। और फिर उसकी नजर ऊपर बंदरों पर पड़ी। देखा तो सभी बंदरने अपने सर पर टोपी पहनकर रखी थी।

उसने उन बंदरों से अपनी टोपी मांगने की कोशिश की। पर किसी भी बंदर ने उसे किसने भी टोपी नहीं दी। वह टोपी वाला जैसा कर रहा था, सभी बंदर भी ऐसे ही कर रहे थे। उस टोपी वाले को कुछ समझ में आ गया। कि वह बंदर मेरी नकल कर रहे हैं। उसके दिमाग में एक आयडिया आया। उसने अपने सर से टोपी निकाल कर नीचे फेंक दी। तो सभी बंदरोंने, अपने सर के सर के ऊपर से टोपी निकालकर नीचे फेंक दी। फिर टोपीवालेने फटाफट टोपी उठाकर अपने बैग में भर लिया। और वहां से चला गया।

तो इस तरह से दोस्तों कभी-कभी अकल का इस्तेमाल करके, हम अपन काम कर सकते हैं।

ये भी पढ़े: