एक लड़का था। वह जॉब के लिए दूसरे शहर में जाने वाला था। अगले दिन जॉब  इंटरव्यू के लिए निकलता है। वह  ट्रेन में स्लीपर क्लास में बैठ जाता है। वहां उसके बाजू में एक बीमार बूढ़ी औरत लेटी हुई थी। उस औरत ने कहा बेटा मेरी तबीयत ठीक नहीं है। इसलिए मैं हॉस्पिटल जा रही हूं मुंबई में। वहां मेरा बेटा मुझे स्टेशन पर लेने आने वाला है। इतना कहकर वह औरत बेहोश हो गई।

 वह लड़का अब सोच में पड़ गया। कि अब क्या करूं, तभी उसने  वहां उस औरत का मोबाइल देखा। उसने मोबाइल को ओपन किया और उसमें कॉल हिस्ट्री को देखा। तो उसमें  लास्ट डायल किया गया नंबर उसके बेटे का था। उसने उस नंबर पर कॉल किया। पर उसके बेटे ने किसी काम में बिजी होने की वजह से फ़ोन नहीं उठा पाया था। उसी बीच उस लड़के का स्टेशन आ जाता है। वह लड़का कंफ्यूज हो जाता है, क्या करूं इस हालत में बूढ़ी औरत को छोड़ कर चला जाऊंगा तो वह मुंबई स्टेशन पर उतर भी जाएगी या नहीं।

 फिर उस लड़के ने चलो कोई बात नहीं, इंटरव्यू फिर कभी दे देंगे आज इस औरत की जान बचा लेता हु। उसने क्या किया उस औरत को मुंबई तक छोड़ने के लिए गया तभी कुछ ही देर में उसके बेटे का फोन आ जाता है। तब वह  लड़का फोन रिसीव करता है। और कहता है आपकी मां बेहोश हो गई थी इसीलिए मैं आपकी मां को छोड़ने के लिए मुंबई आ रहा हूं। बूढी औरत के बेटे ने उसे धन्यवाद कहा। तब उसी बीच मुंबई स्टेशन आ जाता है।  और फिर वह लड़का और उसका बेटा उसे लेकर हॉस्पिटल जाता है। उस औरत के बेटे ने उस लड़के को धन्यवाद कहा।



 फिर वह लड़का कहने लगा की मेरा इंटरव्यू अब तो छूट गया है तो आज की रात में यह स्टेशन पर बिताने से अच्छा है कि मैं आपकी मां की सेवा करने में बिता दू। और उसने इसकी मां की सेवा की उसकी मां ने उसे आशीर्वाद दिया। फिर वह अगले दिन जॉब इंटरव्यू के लिए फिर से ट्रेन में बैठ कर गया। जॉब इंटरव्यू के लिए वो एक कंपनी में गया तभी उस कंपनी के साहबने कहा तुम्हारी जॉब पक्की है भाई। कंपनी के साहबने कहा कि जिस ट्रेन में तुम सफर कर रहे थे, उसी डिब्बे में भी था। तुम्हारी सारी घटना मैंने देखी है। जो तुम इतने ईमानदार हो तो तुम्हें मैं नौकरी पर जरूर रख लूंगा क्योंकि ईमानदार व्यक्ति मुझे बहुत पसंद है। और उस साहब ने उसे नौकरी पर रख लिया।

तो देखा दोस्तों किसी की भी मदद करने में हमें क्या फायदा होता है। उस औरत का आशीर्वाद उसके लिए कितना वरदान साबित हुआ।